Post Mauryan Period - After the death of Ashoka, the Mauryan Empire steadily disintegrated as his successors

  • View
    0

  • Download
    0

Embed Size (px)

Text of Post Mauryan Period - After the death of Ashoka, the Mauryan Empire steadily disintegrated as his...

  • Post Mauryan Period

  • After the death of Ashoka, the Mauryan Empire steadily disintegrated as his successors were not able to keep the vast empire from fracturing away. Independent kingdoms arose out of the provinces.

    Foreign invasions were occurring in the northwest.

    Kalinga declared its independence.

    In the South, the Satavahanas rose to power and in the Gangetic plains, Sunga or Shunga dynasty replaced the Mauryas.

    अशोक की मृतु्य के बाद, मौर्य

    साम्राज्य लगातार विघवित हो गर्ा

    क्ोोंवक उसके उत्तराविकारी विशाल

    साम्राज्य को खोंवित होने से रोक नही ों

    पाए। स्वतोंत्र राज्य प्ाोंतोों से बाहर

    वनकले।

    उत्तर पविम में विदेशी आक्रमण हो

    रहे थे।

    कवलोंग ने अपनी स्वतोंत्रता की घोषणा

    की।

    दविण में, सातिाहन सत्ता में आए और

    गोंगा के मैदानोों में, मौर्ों की जगह शुोंग र्ा शुोंग िोंश ने ले ली।

  • Sunga Dynasty

    Pushyamitra Sunga was Brahmin army chief of Brihadratha, the last king of the Mauryas.

    During a military parade, he killed Brihadratha and established himself on the throne in 185 or 186 BC.

    According to some historians, this was an internal revolt against the last Mauryan king. Some say it was a Brahminical reaction to the Mauryan overwhelming patronage of Buddhism.

    Pushyamitra Sunga’s capital was at Pataliputra.

    He successfully countered attacks from two Greek kings namely, Menander and Demetrius.

    He also thwarted an attack from the Kalinga king Kharavela.

    He conquered Vidarbha.

    He followed Brahminism. Some accounts portray him as a persecutor of Buddhists and a destroyer of stupas but there has been no authoritative evidence to this claim.

    पुष्यवमत्र शुोंग, मौर्ों के अोंवतम राजा बृहद्रथ का ब्राह्मण सेना प्मुख था।

    एक सैन्य परेि के दौरान, उन्ोोंने बृहद्रथ को मार िाला और 185 र्ा 186 ईसा पूिय में खुद को वसोंहासन पर स्थावपत वकर्ा।

    कुछ इवतहासकारोों के अनुसार, र्ह अोंवतम मौर्य राजा के खखलाफ एक आोंतररक विद्रोह था। कुछ लोग कहते हैं वक र्ह मौर्य के बौद्ध िमय के व्यापक सोंरिण के वलए एक ब्राह्मणिादी प्वतवक्रर्ा थी।

    पुष्यवमत्र शुोंग की राजिानी पािवलपुत्र में थी।

    उन्ोोंने दो ग्रीक राजाओों, मेन्डरेंिर और िेमेविि र्स के हमलोों का सफलतापूियक सामना वकर्ा।

    उन्ोोंने कवलोंग नरेश खारिेल के हमले को भी विफल कर वदर्ा।

    उसने विदभय पर विजर् प्ाप्त की।

    उन्ोोंने ब्राह्मणिाद का पालन वकर्ा। कुछ खाते उसे बौद्धोों के उत्पीड़नकताय और सू्तपोों को नष्ट करने िाले के रूप में विवत्रत करते हैं लेवकन इस दािे का कोई आविकाररक प्माण नही ों है।

  • During his reign, the Stupas at Sanchi and Barhut were renovated. He built the sculptured stone gateway at Sanchi.

    He performed Vedic sacrifices such as Ashvamedha, Rajasuya and Vajapeya.

    Pushyamitra Sunga patronised the Sanskrit grammarian Patanjali.

    According to the Puranas, his reign lasted for 36 years. He died in 151 BC.

    Agnimitra

    Was Pushyamitra’s son who succeeded him to the throne.

    His reign lasted from about 149 BC to 141 BC.

    By this time, Vidarbha broke away from the empire.

    Agnimitra is the hero of Kalidasa’s poem, Malavikagnimitram.

    उनके शासनकाल के दौरान, साोंिी और बरहुत में सू्तपोों का निीनीकरण वकर्ा गर्ा था। उन्ोोंने साोंिी में मूवतयकला पत्थर के प्िेश द्वार का वनमायण वकर्ा।

    उन्ोोंने अश्वमेि, राजसूर् और िाजपेर् जैसे िैवदक र्ज्ञ वकए।

    पुष्यवमत्र शुोंग ने सोंसृ्कत व्याकरवणक पतोंजवल का सोंरिण वकर्ा।

    पुराणोों के अनुसार, उनका शासनकाल 36 िषों तक रहा। उनकी मृतु्य 151 ई.पू.

    अगवणवमत्रा

    क्ा पुष्यवमत्र का पुत्र था, वजसने उसे वसोंहासन पर बैठार्ा।

    उनका शासनकाल लगभग 149 ईसा पूिय से 141 ईसा पूिय तक रहा।

    इस समर् तक, विदभय साम्राज्य से अलग हो गर्ा।

    अविवमत्र कावलदास की कविता, मालविकाविवमत्रम के नार्क हैं।

  • His son Vasumitra succeeded him as king.

    Vasumitra’s successors are not clearly known. Different names crop up in several accounts such as Andhraka, Pulindaka, Vajramitra and Ghosha.

    The last Sunga king was Devabhuti. He was preceded by Bhagabhadra.

    Devabhuti was killed by his own minister, Vasudeva Kanva in around 73 BC. This established the Kanva dynasty at Magadha from 73 to 28 BC.

    Effects of Sunga rule

    Hinduism was revived under the Sungas.

    The caste system was also revived with the rise of the Brahmanas.

    उनके पुत्र िसुवमत्र ने उन्ें राजा के रूप में उत्तराविकारी बनार्ा।

    िसुवमत्र के उत्तराविकारी स्पष्ट रूप से ज्ञात नही ों हैं। आोंध्रका, पुवलोंदका, िज्रवमत्रा और घोषा जैसे कई खातोों में विवभन्न नामोों की फसल होती है।

    अोंवतम सुोंग राजा देिभूवत थे। िह भागभद्र से पहले थे।

    देिभूवत को उनके ही मोंत्री, िासुदेि कण्व ने लगभग 73 ई.पू. इसने 73 से 28 ईसा पूिय मगि में कण्व िोंश की स्थापना की।

    सुोंग शासन के प्भाि

    सुोंग के तहत वहोंदू िमय को पुनजीवित वकर्ा गर्ा था।

    ब्राह्मणोों के उदर् के साथ जावत व्यिस्था को भी पुनजीवित वकर्ा गर्ा।

  • Another important development during the Sunga reign was the emergence of various mixed castes and the integration of foreigners into Indian society.

    Satavahana Dynasty

    The Sunga dynasty came to an end in around 73 BC when their ruler Devabhuti was killed by Vasudeva Kanva. The Kanva dynasty then ruled over Magadha for about 45 years. Around this time, another powerful dynasty, the Satavahanas came to power in the Deccan area.

    Kanvas (73 BC – 28 BC)

    There were four kings of the Kanva dynasty namely, Vasudeva, Bhumimitra, Narayana and Susarman.

    The Kanvas were Brahmins.

    सुोंगा शासन के दौरान एक और महत्वपूणय विकास विवभन्न वमवित जावतर्ोों का उदर् और विदेवशर्ोों का भारतीर् समाज में एकीकरण था।

    सातिाहन िोंश

    सुोंग िोंश लगभग 73 ईसा पूिय में समाप्त हो गर्ा था जब उनके शासक देिभूवत को िासुदेि कण्व द्वारा मार वदर्ा गर्ा थ